Latest Entries »

WAS ALWAYS DEDICATED TO YOU SWEETU… 🙂

 

A walk

hand in hand

:)

🙂

a sleep that

rests on shoulder

a sweetness that we share

a frown that you care

our voices so still

that heartbeats come to living…

no matter how and where and why I am,

will not stop loving…

 

Happiness is cherished with you,

you know about my tears too,

days sometimes are black

I hopefully can hold myself back,

I just count my days dear,

hours with you will be many more

o please..!!

hold me, hug me so near to you

so that every breath,

every thought

starts thanking you,

for I promise that a bigger promise

is waiting,

will not….

 

A whisper I hear,

a call so dear,

an hour much awaited

when another year adds to you again,

may the smile remains the same,

and happiness lifelong blooms,

and may everything you touch

always experiences unfading spring

will not ever…

 

WILL NOT STOP LOVING… 🙂 🙂

Advertisements

Will not stop loving

May be the day’s long gone

May be its long to be dawn

But who would

Sit at nights

Peeping the stars alone..??

I’m not definitely up giving,

Will not stop loving…

promise

promise

Words coming up at random

I’m now not afraid of outcome

When you with me

Life’s looking hazy

But calm

O please..!!

Stay with me…

For I may fall…

I don’t know you will

Hold back or not…

But at least…

I will again see myself standing…

I promise you sweetheart

Will not stop loving…

Come to me…

A promise I can make

That you shall never be awake alone

When stars go dim

By your window,

Come to me… I’ll hold you tight

And never let you go….

promise

promise

A promise that

You’ll never see the ground

N heavenly blues

Would become ‘your’ color

For everyday…

Come to me… for I make you a home

Worth a whole world of promises…

Days and times when

Life outruns you,

A mere thought would

Put forth a bridge

Where I am there to

Leap you out…

A promise that

All the promises will be kept

A promise that

That it’ll be most kept and said

When least needed

Come to me…

For I promise that

Souvenirs of our good memories

Will always be kept deep

And never forgotten…

एक सीने में दो दिल धडकते

मैंने देखा है,

एक को रोते

एक को औरों को हँसाते

मैंने देखा है,

खुद को अंजानों की भीड में

और भीड जैसा माहौल

खुद में उमडते

मैंने देखा है..॥

 

दूसरों की पादुकाओं में

ठंडी रातों में

अपने मन को

कुलमुलाते मैंने देखा है,

दीवार जैसे रिश्तों को

समय की आँधी में

फिसलती रेत होते

मैंने देखा है…॥

 

happy hand

happy me 🙂

 

देखो ना इतने ध्यान से तुम,

नज़रें जो मिली तो रो पडोगे,

सौ दर्द, हज़ार आँसू, अनगिनत लफ़्ज़ दबे हैं यहाँ,

दिल के टुकडे ’गर’ गिनने निकलोगे

तो खुद बिखर पडोगे,

शब्दों में बयां ना हो जो,

उस दास्तां का सारांश है ये,

जहाँ लोग ज़मानों की तरह

बदल गये,

और बदले ज़मानों का

हिसाब नहीं जहाँ,

हर टूटी मुस्कुराहट में

छिपी खुशी है जहाँ,

और उन्हीं लोगों, ज़मानों और मुस्कुराहटों मे

बर्फ़ से ठंडे रिश्तों को

खून मे बदलते

मैंने देखा है…

मैंने देखा है…॥॥

parted

parted

everyone writes on how a guy feels after two people get parted.

here I try to depict… how a girl really feels…

जाने अन्जाने शायद कुछ

कह ना पायी थी,

तुम भी तो

ना थे समझे,

और हर अनकहा शब्द

दर्द बन कर रह गया है

.

सिरहन सी दौड जाती है

जब पास से निकल जाते हो,
क्या कठोर ही थे

या मैं ना जानी थी,

और हर छिपाया आँसू

वहीं जम कर रह गया है

.

ना चाह कर भी सोचने

पर मज़बूर हुई थी,

कि हम साथ थे जब

तो क्या पैदा इक दूरी हुई थी,

और हम जहाँ हैं आज क्या

उसी का नतीजा हो कर रह गया है

.

दिन से सप्ताह

सप्ताह पक्ष हुए, और

पक्ष महीने हुए हैं

हमें नज़रें मिलाये,

बस दूर से ही

सुनती हूँ तुम्हें,

और यादों के काँच का हर टुकडा

खुद को सताने का ज़रिया हो गया है

.

मैं तुम्हारी तरह

अपनी मर्ज़ी से नहीं चलती,

हज़ारों तरह की उम्मीदों का

नन्हा सा बांध हूँ,

किस किस को थाम के चलूँ

इसी कश्मकश में,

सब कुछ पीछे

छूटता जाता है,

रिश्ते नहीं संभाल पा रही हूँ

बस भाग ही रही हूँ,

तुम्हारा साथ ना दे पायी

इस का दुख ना करना,

मेरा गुस्सा भी

तुम पर नहीं खुद पर है,

कि शायद मैं ही हार गयी तुम्हें

इस जीवन की भाग दौड में

….

.

तुम खुश हो या नहीं

पता नहीं,

पर मैं यहाँ अभी भी

वहीं खडी हूँ,

जहाँ कभी नहीं

जाना चाहती थी,

मैं चुप सी ही ठीक हूँ

शायद हाँ, तुम्हारे कोप के इंतज़ार में,

और ये बेकार सा जीवन ही

मेरे जीने की वज़ह सा हो गया है….

%d bloggers like this: