Tag Archive: friend


Will not stop loving

May be the day’s long gone

May be its long to be dawn

But who would

Sit at nights

Peeping the stars alone..??

I’m not definitely up giving,

Will not stop loving…

promise

promise

Words coming up at random

I’m now not afraid of outcome

When you with me

Life’s looking hazy

But calm

O please..!!

Stay with me…

For I may fall…

I don’t know you will

Hold back or not…

But at least…

I will again see myself standing…

I promise you sweetheart

Will not stop loving…

parted

parted

everyone writes on how a guy feels after two people get parted.

here I try to depict… how a girl really feels…

जाने अन्जाने शायद कुछ

कह ना पायी थी,

तुम भी तो

ना थे समझे,

और हर अनकहा शब्द

दर्द बन कर रह गया है

.

सिरहन सी दौड जाती है

जब पास से निकल जाते हो,
क्या कठोर ही थे

या मैं ना जानी थी,

और हर छिपाया आँसू

वहीं जम कर रह गया है

.

ना चाह कर भी सोचने

पर मज़बूर हुई थी,

कि हम साथ थे जब

तो क्या पैदा इक दूरी हुई थी,

और हम जहाँ हैं आज क्या

उसी का नतीजा हो कर रह गया है

.

दिन से सप्ताह

सप्ताह पक्ष हुए, और

पक्ष महीने हुए हैं

हमें नज़रें मिलाये,

बस दूर से ही

सुनती हूँ तुम्हें,

और यादों के काँच का हर टुकडा

खुद को सताने का ज़रिया हो गया है

.

मैं तुम्हारी तरह

अपनी मर्ज़ी से नहीं चलती,

हज़ारों तरह की उम्मीदों का

नन्हा सा बांध हूँ,

किस किस को थाम के चलूँ

इसी कश्मकश में,

सब कुछ पीछे

छूटता जाता है,

रिश्ते नहीं संभाल पा रही हूँ

बस भाग ही रही हूँ,

तुम्हारा साथ ना दे पायी

इस का दुख ना करना,

मेरा गुस्सा भी

तुम पर नहीं खुद पर है,

कि शायद मैं ही हार गयी तुम्हें

इस जीवन की भाग दौड में

….

.

तुम खुश हो या नहीं

पता नहीं,

पर मैं यहाँ अभी भी

वहीं खडी हूँ,

जहाँ कभी नहीं

जाना चाहती थी,

मैं चुप सी ही ठीक हूँ

शायद हाँ, तुम्हारे कोप के इंतज़ार में,

और ये बेकार सा जीवन ही

मेरे जीने की वज़ह सा हो गया है….

तुम्हारी मुस्कुराहटों के,
तुम्हारी प्यारी बातों के,
उन साथ बिताये पलों के
रूप में मिली सौगातों के
बदले में,
काश तुम्हें कुछ दे पाता,
काश, एक कविता लिख पाता…।

यूँ तो जो महसूस किया
उसे कोरे कागज़ पर उकेरना
बहती नदी को मुठ्ठी में
बन्द करने जैसा होगा,
काश उन भावनाओं के नीर
का रंग तुम्हें दिखला पाता,
काश, एक कविता लिख पाता…।
कोई ना समझ पाया था
ना कभी समझेगा,
कैसे और क्या हैं हम
इक-दूजे के लिये,
काश उस अनकही अनजानी
समझ को कोई संज्ञा दे पाता,
काश, एक कविता लिख पाता…।
अरे पगली,
कोई कवि थोडे ही हूँ,
कि तुझ पर अनगिनत
काव्य न्यौछावर कर दूंगा,
पर तेरी हर मुस्कुराहट
तो मेरे लिये ’तुकान्त’ है,
काश उन पलों, रंगों, संज्ञाओं पर
मैं भी एक ’मधुशाला’ लिख पाता…
काश, एक कविता लिख पाता…।

May be…

May be it was a tear

May be a smile behind it

Or just a wrong perception

Done by your conception…tired thinking

.

Was it the haze all around you…

Which blurred you that day

Or

Gloom of your mind

Which led you all the way..?

It was just radiance

Which I befriended long ago…

I know…

May be… I was not in mood

To cry that night.

.

You said I lost

What I got

Or

Someone took it from me

To fulfill their own ends.

May be… I never got that

Or

May be you never

Bestowed it for me…

Hey… did I know

‘WHAT’ it was…?

May be no…

May be yes…

.

This calligraphic note…

Isn’t for I miss you

May be… I am angry now

Spending this time

Drawing a line

Between desperation

And determination

Or

May be… yes…

I miss you.

.

I know you aren’t

Always happy

And do not think

My smile shows you

What it always tries

May be… it just tells

You are as stubborn

As I used to be.

And may be… I am still smiling. 🙂

An intimate chum

You can always have smiles

For a smiling face from everyone,

But people who share tears with you

Are really none.

But somewhere is born

To share your sorrows,

He shares his smile with you

And pains he borrows.

He is always with you

He understands, predicts and feels you,

He encourages you always

And in cries he heals you.

You can mark his presence

In the world anywhere,

But his replacement you can find

Nowhere in the world.

He can all of his blood

For your life to be saved,

He’ll rather die himself

Before you are to be graved.

He shares with you everything

Except his wife,

If you have cake

He’ll definitely have a knife.

He’ll always be there with you

In every hour of need,

And that’s how you define my dear

A FRIEND indeed.

%d bloggers like this: